1000 परिवार मनाएँगे काली दिवाली, रोशनी के नाम पर केवल निकिता के चित्र के आगे जलेगा दीपक

News24ncr/Faridabad/SandeepGathwal: साल 2020 निकिता के परिवार के लिए किसी कहर से कम नही रहा। बीकॉम अंतिम वर्ष की होनहार छात्रा जी बढ़े प्रशानिक पद पर बैठकर देश की सेवा करना चाहती थी वह एक सिरफिरे के हाथों मारी गई। दो साल तक मानसिक दवाब को झेलने के बावजूद निकिता हिम्मत नही हारी थी लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। इस साल निकिता के घर में दिवाली पर रोशनी के नाम पर केवल एक दीपक जलेगा जो निकिता के चित्र के सामने उसकी आत्मा की शांति के लिए परिजनों की तरफ से जलाया जाएगा।

निकिता का परिवार व सोसायटी के लोग इस बार काली दिवाली मनाएंगे। निकिता के घर के अलावा आसपास के लोग भी घरों को बाहर से नही सजाएंगे। निकिता के मामा एदल सिंह रावत का कहना है कि निकिता की हत्या के बाद से सोसायटी के लोगों में भी गुस्सा व गम भरा हुआ है। इस बार निकिता के घर के आसपास के लोग घरों के बाहर रंगीन लड़ियाँ व झालर आदि नही लगाएंगे। निकिता की मां विजया तोमर का कहना है कि जिस दिन दोषियों को फांसी होगी उस दिन वह घर में घी के दीपक जलाएगी। उससे पहले तो उनके लिए सारी रातें अमावस हैं।

निकिता के पिता मूलचंद तोमर ने बताया कि अपना घर सोसायटी में 500 से ज्यादा मकान हैं जिनमे हजार से ज्यादा परिवार रहते हैं। एक सप्ताह पहले ही सोसायटी की आरडब्लूए द्वारा सर्कुलर जारी कर दिया गया था जिसपर सभी ने सहमति जाहिर की थी। इस बार निकिता के जाने के गम में पूरी सोसायटी काली दिवाली मनाएगी किसी घर के सामने किसी तरह की लड़ियाँ, झालर या दीपक नही जलाए जाएंगे। सभी घरों में केवल एक प्रतीकात्मक दीपक जलाया जाएगा। पटाखे, आतिशबाजी या रोशनी का कोई अन्य जरिया सोसायटी में इस्तेमाल नही होगा। कॉलेज से पेपर देकर लौट रही बीकॉम अंतिम वर्ष की छात्रा की अपहरण की कोशिश के बाद हत्या कर दी गई थी जिसका केस न्यायालय में विचाराधीन है।