1 करोड़ मास्क फ़्री बाँटेगी हरियाणा सरकार, शादी में भी 100 से अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर पाबंदी

News24ncr/Faridabad: हरियाणा में कोरोना ने एक बार फिर से रफ्तार पकड़ ली है। लगातार तेजी से बढ़ते नए केसों ने चिंता बढ़ा दी है। इसका सबसे ज्यादा प्रकोप प्रदेश के 6 जिलों में देखने को मिल रहा, जोकि दिल्ली के साथ सटे हैं। इसको लेकर अब हरियाणा सरकार सख्त हो गई है। एनसीआर में आने वाले 6 जिलों में हरियाणा सरकार ने भीड़ को नियंत्रण करने पर फैसला लिया है। राज्य सरकार ने समारोह में लोगों की संख्या 100 कर दी है। समारोह में अब 26 नवंबर से 100 से ज्यादा लोग इकट्ठा होने पर पूरी तरह से रोक रहेगी। यह जानकारी खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने दी।

PunjabKesari, haryana

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना से प्रभावित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा की। इसमें हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर भी मौजूद रहे। मीटिंग के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मीडिया से बातचीत में कहा कि पीएम ने सभी सीएम के साथ वीसी की है। उसमें कोरोन की थर्ड वेव को देखते हुए चिंता व्यक्त की गई। इन 3 प्रान्तों में हरियाणा भी शामिल है। उन्होंने कहा कि कोरोना को रोकने के लिए हरियाणा में 1 करोड़ मास्क बांटेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से हरियाणा में 6 जिले सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। यह सभी जिले एनसीआर में आने वाले हैं। गुरुग्राम, फरीदाबाद, सोनीपत, रोहतक में असर ज्यादा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इन जिलों में अब समारोह में सिर्फ 100 लोगों भागीदारी कर सकेंगे। 

इसके साथ उन्होंने कोरोना वैक्सीन को लेकर कहा कि हेल्थ केयर वर्कर्स को सबसे पहले वैक्सीन दी जाएगी। वैक्सीन डिस्ट्रीब्यूशन के लिए 4 कैटेगरी बनाई गई हैं। वहीं मुख्यमंत्री ने नाइट कर्फ्यू पर कहा कि हरियाणा में रात्रि कर्फ्यू लगाने की अभी कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने जनता से अपील की कि वह कोरोना के नियमों का पालन करें। इसके अलावा किसानों के दिल्ली को कूच को लेकर मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली किसानों का कूच गैरकानूनी। केंद्र सरकार ने किसानों के हित में फैसले लिए हैं। 

PunjabKesari, haryana

गौरतलब है कि प्रदेश के किसान संगठनों ने 26 नवंबर को दिल्ली कूच का ऐलान किया है। जिसको लेकर किसान संगठन तैयारी कर रहे हैं, लेकिन इसी बीच अब दिल्ली से सटे 6 जिलों में कोरोना के बढ़ते केसों को देखते हुए भीड़ इकट्ठी करने पर पाबंदी लगा दी है। 26 नवंबर से ही इन 6 जिलों में समारोह में 100 से ज्यादा लोग इकट्ठा होने पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। ऐसे में अब कई क्यास लगाए जा रहे हैं। उधर, किसान संगठनों का कहना है कि सरकार के कायर्कमों में कोरोना खत्म हो जाता है, लेकिन जब किसान रैली करते हैं तो कोरोना जिंदा हो जाता है। उन्होंने कहा कि सरकार कई बार किसानों के साथ ऐसा कर चुकी ही।