लोगों के लिए श्राप साबित हो रहा पलवल का अधूरा पड़ा पुल का काम, फँसे रहते है जाम में

News24NCR/Faridabad: हरियाणा प्रदेश में सरकार के मुताबिक चल रहे कथित विकास कार्य की बदौलत आजकल फरीदाबाद से पलवल जाने वाले लोगों को सामान्य के मुकाबले कई परेशानियों का सामना और कड़ी मेहनत करनी पड़ रही है। छोटे से छोटे नियम का उल्लंघन करने पर ट्रैफिक पुलिस द्वारा चालान काटे जाने के डर के अतिरिक्त इन दिनों फरीदाबाद से पलवल जाने वाली जनता को टूटी-फूटी सड़कें से जूझने के साथ दर्जनों निर्माणाधीन कार्य के कारण लंबे जाम का सामना करना पढ़ रहा है‌।

जिसके चलते फरीदाबाद से पलवल तक का 30 मिनट का सफर अब कई घंटों लंबा हो चुका है। स्थानीय प्रशासन और राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण प्राधिकरण द्वारा जनता को उनके हाल पर छोड़ कर सारा विकास कार्य भगवान भरोसे छोड़ दिया गया है और इन दिक्कत परेशानियों से जूझती जनता के पास शिवाय सरकार को कोसने के अलावा कोई चारा नहीं बचा है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पिछले कई सालों से फरीदाबाद से पलवल के बीच एक प्राइवेट कंपनी द्वारा राष्ट्रीय राजमार्ग के चौड़ीकरण और पुल निर्माण का कार्य चल रहा है। जिसके पूरे होने की कोई समय सीमा निर्धारित नहीं की गई है। सरकार के दावों के मुताबिक जनता की सुविधा के लिए किया जा रहा यह विकास कार्य कभी-कभी महीनों तक बंद कर दिया जाता है।

तो कभी-कभी धीमी गति से दिखावे के तौर पर इस कार्य को आगे बढ़ाने की नाकाम कोशिश की जाती है लेकिन सालों से यह कार्य ऐसे ही फैला हुआ है और जनता को उनके आधे घंटे के सफर के बदले नाक से चने चबवा रहा है। फरीदाबाद से पलवल तक के सफर के दौरान जब झाड़सेटली के करीब पहुंचते हैं तो।

वहां पर अस्त-व्यस्त पड़े पुल के निर्माण कार्य के चलते घंटों तक लंबा जाम लगा रहता है। इस पुल निर्माण का कार्य कर रही प्राइवेट कंपनी एनएचएआई द्वारा कार्य शुरू करने से पहले जनता की सुविधा के लिए कोई सुगम रास्ता निर्धारित नहीं किया गया था। जिसके चलते अब यहां पर घंटों तक लंबा जाम लगा रहता है और इस जाम से निकल कर जब थोड़ी ही दूर सीकरी के नजदीक पहुंचते हैं तो वहां पर भी यही हाल देखने को मिलता है जिसकी इकलौती वजह केवल सरकार की लापरवाही है।

इन दिनों टूटी फूटी सड़कें और अस्थ व्यस्थ पड़े निर्माण कार्य से जूझ रही जनता को फरीदाबाद से पलवल पहुंचने के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है जिसके लिए ना तो सरकार द्वारा कोई हल निकाला जा रहा है और ना ही सड़क और पुल निर्माण कार्य में जुटी हुई कंपनी इस पर कोई ध्यान दे रही है। जनता द्वारा कई शिकायतों और ज्ञापन सौपे जाने के बाद भी इस समस्या का हल निकलवा पाना मुश्किल हो रहा है।