मारा गया विकास दुबे, पुलिस एनकाउंटर में हुआ ढेर, लोग दे रहे बधाइयाँ।

News24NCR/Delhi: पुलिस ने बताया कि प्रदेश की स्पेशल टास्क फ़ोर्स विकास को उज्जैन से सड़क के रास्ते कानपुर लेकर जा रही थी जब गाड़ी पलट गई. इसके बाद विकास दुबे ने भागने की कोशिश की जिसके बाद पुलिस को गोली चलानी पड़ी जिसमें अभियुक्त की मौत हो गई.

कानपुर रेंज के आईजी मोहित अग्रवाल ने विकास दुबे के मारे जाने की पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि चार पुलिस कर्मी भी घायल हुए हैं जिनका कानपुर के सीएचसी अस्पताल (कम्युनिटी हेल्थ सेन्टर या सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र) में उनका इलाज चल रहा है.

उन्होंने बताया कि घटना का पूरा ब्यौरा देने के लिए पुलिस प्रेस कॉन्फ्रेंस करेगी और तभी सबकुछ बताया जाएगा. 

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि कानून ने अपना काम किया है. 

उन्होंने इस मुठभेड़ पर सवाल उठाने वाले लोगों पर प्रतिक्रिया करते हुए कहा,”अफ़सोस और मातम की बात उन लोगों के लिए होगी जो कल कह रहे थे कि ज़िंदा क्यों पकड़ा और आज कह रहे हैं कि मर क्यों गया. कई राज़ दफ़न हो गए. ये वो लोग हैं जो कल कुछ और कह रहे थे और आज कुछ और.”

गाड़ी पलटने के बाद की भागने की कोशिशः पुलिस

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार सुबह कानपुर मुठभेड़ के मुख्य अभियुक्त विकास दुबे को उत्तर प्रदेश की स्पेशल टास्क फ़ोर्स उज्जैन से सड़क के रास्ते कानपुर लेकर जा रही थी. 

कानपुर पहुंचने के रास्ते में ही काफ़िले की एक गाड़ी पलट गई. 

पुलिस अधिकारी ने बताया कि गाड़ी पलटने से कुछ पुलिस कर्मी घायल हुए थे और उन्हीं घायल पुलिस कर्मियों का पिस्तौल लेकर वो भागने की कोशिश कर रहा था. 

इसके बाद पुलिस ने उसे घेर लिया, उसे आत्मसमर्पण करने के लिए कहा गया लेकिन उसने गोली चलानी शुरू कर दी. जवाब में पुलिस ने भी फ़ायरिंग की. 

हालांकि विकास को कितनी गोलियां लगी हैं, इसकी कोई जानकारी उन्होंने नहीं दी. इसके बाद विकास दुबे को स्ट्रेचर पर घायल अवस्था में अस्पताल ले जाया गया. पुलिस के अनुसार बाद में डॉक्टरों ने अभियुक्त की मौत की पुष्टि की.

पोस्ट ट्विटर समाप्त @ANINewsUP

कानपुर में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के मुख्य अभियुक्त विकास दुबे को मध्य प्रदेश पुलिस ने गुरुवार नौ जुलाई को उज्जैन से गिरफ़्तार किए जाने के बाद कानपुर लाया जा रहा था.