फरीदाबाद में बिना इस्तेमाल किए कंडम हुए दो करोड़ कि लागत से बने स्मार्ट शौचालय

News24NCR/Faridabad: स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत विभिन्न कार्यों में किस तरह से जनता के पैसे का दुरुपयोग किया जा रहा है। इस बाबत पिछले दिनों हमने अपनी एक खबर में बताया था। अब इसका एक और नमूना सामने आया है। शहर में बनवाए गए 10 स्मार्ट शौचालय कंडम हो चुके हैं। अधिकतर पर जंग लग गया है। दरवाजे, टोटियां व अन्य सामान गायब हो चुका है। इस तरह बिना इस्तेमाल किए ही स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत स्थापित किए गए दो करोड़ रुपये के शौचालय बेकार हो गए हैं। अब स्मार्ट सिटी लिमिटेड की ओर से इन शौचालयों को रखरखाव के लिए नगर निगम को देने की तैयारी की है, लेकिन इससे पहले सभी शौचालयों को चालू हालत में करने के लिए मरम्मत होगी। इस पर भी लाखों रुपये का खर्चा आएगा। यदि इनका शुरू से ही रखरखाव किया जाता तो मरम्मत की जरूरत नहीं पड़ती।

नगर निगम नहीं दिखा रहा रुचि

नगर निगम अधिकारी भी कंडम शौचालयों को लेने में रुचि नहीं दिखा रहे हैं। पिछले महीने स्मार्ट सिटी लिमिटेड की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा.गरिमा मित्तल शौचालय को नगर निगम के हैंडओवर करने संबंधी पत्र निगमायुक्त यशपाल यादव को भेज चुकी हैं, लेकिन इसका कोई जवाब अभी तक नहीं मिला है।

दो साल पहले बनवाए गए थे शौचालय

फरीदाबाद स्मार्ट सिटी लिमिटेड (एफएससीएल) की ओर से शहर में फरवरी 2018 से अगस्त 2018 तक 10 स्मार्ट शौचालय स्थापित किए गए थे। हालांकि शुरुआत के समय से ही गुणवत्ता और कई गुना अधिक कीमत के कारण विवाद में रहे। कुछ दिन बाद ही ये बदहाल होना शुरू गए थे। ये शौचालय सेक्टर-19 पुलिस चौकी, गोपी कालोनी, एनआइटी 5, पुलिस चौकी के पास, सेक्टर-21डी मार्केट, मेट्रो स्टेशन, बड़खल के पास हैं और प्रत्येक पर 20 लाख रुपये का खर्च आया था। फिलहाल शौचालयों की हालत खराब है। इसलिए मरम्मत कराई जाएगी। इसके बाद नगर निगम को सौंपा जाएगा। 

-अरविद कुमार, कार्यकारी अभियंता, स्मार्ट सिटी लिमिटेड।