फरीदाबाद में प्रदूषण पर लगेगी लगाम, जनरेटरौं में लगाने होंगे रेट्रोफिट एविशन कंट्रोल डिवाइस

News24NCR/Faridabad: सर्दी का मौसम शुरू होने के साथ ही प्रदूषण का स्तर बढ़ने लगा है। इसे देखते हुए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से 500 केवीए क्षमता से ज्यादा के जनरेटर पर रेट्रोफिट एविशन कंट्रोल डिवाइस लगाने अनिवार्य कर दिए हैं। इससे जनरेटरों से होने वाले प्रदूषण को काफी हद तक कम किया जा सकेगा। इस संबंध में विभाग की ओर से उद्योगों को सूचित कर दिया गया है।

औद्योगिक नगरी फरीदाबाद में छोटे-बड़े 30 हजार उद्योग हैं। इनमें कई ऐसे उद्योग हैं जो बिजली जाने पर जनरेटरों का इस्तेमाल करते हैं। पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने प्रदूषण बढ़ाने में जनरेटरों को प्रमुख वजह माना है। इसके अलावा सड़कों के ट्रैफिक, पराली जलाने से भी प्रदूषण में बढ़ोतरी होती है। ऐसे में बढ़ते प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए हरियाणा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने जनरेटरों पर एमिशन कंट्रोलर लगाने के आदेश दिए है।

इससे फ्यूल की खपत 70 फीसदी कम हो जाती है और गैस के रूप में परिवर्तित होकर काम करता है। वहीं, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने उद्यमियों से ज्यादा से ज्यादा गैस आधारित जनरेटरों का इस्तेमाल करने के आदेश दिए है। सीपीसीबी के अनुसार, पांच जिले फरीदाबाद, गुरुग्राम, बहादुरगढ़, सोनीपत और पानीपत को आगामी तीन महीने तक रेट्रोफिट एमिशन सिस्टम का प्रयोग अवश्य करना चाहिए।

जिले में 500 केवीए से अधिक क्षमता वाले जनरेटरों पर रेट्रोफिट एमिशन कंट्रोल डिवाइस लगाने के आदेश हैं। इस संबंध में सभी उद्योगों को सूचित कर दिया गया है।
दिनेश कुमार, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड