फरीदाबाद में नहीं होने दिया जाएगा कोई बाल विवाह: पुलिस कमिश्नर राव।

News24NCR/Faridabad: पुलिस आयुक्त केके राव ने अक्षय तृतीया के मौके पर होने वाले बाल विवाह को रोकने के लिए सभी डी.सी.पी, ए.सी.पी, थाना प्रबंधक, चोकी इन्चार्ज, महिला थाना को दिशा निर्देश दिए है कि वो अपने-अपने एरिया में होने वाली शादियों पर नजर रखे।

उन्होंने कहा कि महामारी के चलते लॉक डाउन चल रहा है लेकिन फिर भी बाल विवाह संबंधित कोई घटना ना हो उसके लिए पुलिस अलर्ट है। पुलिस आयुक्त फरीदाबाद ने बताया कि अगर कोई भी नाबालिग लडके व लडकी की शादी कराता है तो उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की जाएगी। इस बारे सभी थाना व चोकी इन्चार्ज को सूचित किया जा चुका है।

उन्होने कहा कि बाल विवाह निषेध अधिनियम के तहत लडके की शादी की आयु 21 साल व लडकी की शादी की आयु 18 साल होना अनिवार्य है।

पुलिस प्रवक्ता सुबे सिहं ने कहा की बाल विवाह रोकने में आम जनता को भी प्रशासन की मदद करनी चाहिए। बाल विवाह रोकने व देश निर्माण में सहयोग करे। बाल विवाह समाजिक बुराई है, बाल विवाह के कारण लडका एवं लडकी दोनो शादी की जिम्मेवारी उठाने के लिए ही मानसिक वह शारीरिक रूप से सक्षम नहीं होते हैं जिससे उनका सही विकास नहीं हो पाता है।