फरीदाबाद के सरकारी कार्यालय भी कोरोना की मज़बूत जकड़ में, कैसे होगा काबू जब जनता है बेकाबू

News24NCR/Faridabad: फरीदाबाद में कोरोना की दस्तक से अब सरकारी विभाग भी अछूते नहीं रहे। जिले में हेल्थ, नगर निगम, बिजली, पुलिस, शिक्षा तथा अन्य सरकारी महकमों में तेजी से कोरोना सक्रंमित मिलने का सिलसिला शुरू हो गया है। खबर आ रही है कि बादशाह खान अस्पताल के डाक्टर भी अब इसकी चपेट में आ गए हैं। इनमें से कुछ की रिपोर्ट पॉजीटिव आने के बाद हडकंप मचा हुआ है। इससे पहले कोविड सेंटर एनआईटी नंबर 3 व बीके अस्पताल की लैब इसलिए बंद की जा चुकी है कि वहां के कर्मचारी पॉजीटिव पाए जा चुके हैं।

अब बीके अस्पताल के डाक्टर भी पॉजीटिव पाए जाने के बाद सीएमओ कार्यालय बंद किए जाने की खबर आ रही है। वहां सेनीटाईज सहित आवश्यक प्रक्रिया अपनाने के बाद फिर से सीएमओ कार्यालय खोला जाएगा। इसके अलावा एनआईटी नंबर 2 एवं 5 के बिजली निगम के कार्यालयों में भी दो महिला कर्मचारी पॉजीटिव पाई गई हैं,जिसके बाद वहां भी अफरा तफरी का माहौल है। इससे पहले जिले के करीब 55 पुलिस कर्मी भी पॉजीटिव पाए गए हैं। इनमें पल्ला पुलिस चौकी, थाना मुजेसर, सैक्टर 55, एनआईटी सहित कई और थानों की पुलिस कर्मी शामिल हैं। इसी तरह से नगर निगम में भी दो दर्जन से अधिक कर्मचारी पॉजीटिव पाए गए हैं।

निगम में एक कर्मचारी के पिता का हाल ही में कोरोना के चलते निधन हुआ है। अपने परिवार की वजह से यह कर्मचारी भी कोरोना पॉजीटिव था, लेकिन उसमें लक्षण दिखाई नहीं दे रहे थे। इसलिए वह लगातार दफ्तर आता रहा। जिसके बाद और कर्मचारी भी इससे सक्रंमित पाए गए। संभावना है कि इस कर्मचारी के चलते ही कुछ और कर्मियों में यह बीमारी फैलने की चर्चाएं हैं। इसी प्रकार से शिक्षा विभाग में भी कई लोग टेस्ट के बाद पॉजीटिव पाए गए हैं। दरअसल सरकारी विभागों के कर्मचारियों का सक्रंमित होना अधिक चिंता का कारण बनता जा रहा है, यह लोग पब्लिक के बीच में रहते हैं। ऐसे में यह बीमारी दूसरों के शरीर में पहुंचने का डर बना रहता है। बता दें कि फरीदाबाद में यह बीमारी तेजी से फैल रही है। जिले में मंगलवार की शाम तक 2695 तक यह आंकड़ा पहुंच चुका है।