फरीदाबाद की हवा में फिर घुला प्रदूषण का ज़हर, एक्यूआई पहुंचा 347

News24NCR/Faridabad: जिले की हवा लगातार जहरीली होती जा रही है। प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ रहा है। पिछले कई दिनों से शहर में प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी में बना हुआ है। शनिवार को भी वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 347 दर्ज किया गया, जो जो बेहद गंभीर श्रेणी में माना जाता है। शुक्रवार को उसकी तुलना में एक्यूआई 36 अंक की कमी दर्ज की गई है। प्रशासन की तरफ से प्रदूषण नियंत्रण को लेकर तमामा दावे किए जा रहे हैं। प्रदूषण संबंधित गतिविधियों पर नजर रखने के लिए टीमों के गठन की भी बात कही जा रही है, मगर प्रदूषण पर कोई खास लगाम लगती दिखाई नहीं दे रही है। प्रदूषण का स्तर लगातार बढ़ता जा रहा है।

पिछले कई दिनों से प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी में बना हुआ है। शुक्रवार को फरीदाबाद का एक्यूआई 383 दर्ज किया गया था। वहीं, शनिवार को एक्यूआई में 36 अंक की कमी दर्ज की गई और यह 347 तक पहुंच गया। शहर में अलग-अलग जगहों में फैले प्रदूषण की बात करें तो सेक्टर-16ए क्षेत्र की हवा सबसे अधिक खराब रही। यहां का एक्यूआई 401 दर्ज किया गया। वहीं, एनआईटी क्षेत्र का एक्यूआई 398, सेक्टर 30 इंडस्ट्रयिल एरिया का एक्यूआई 259 और सेक्टर 11 क्षेत्र का एक्यूआई 332 दर्ज किया गया। शहर में पिछले कई दिनों से स्मॉग ने लोगों को काफी परेशान किया हुआ है।

हर समय आसमान में धूल व धुएं की धुंध सी छाई रहती है। दिन के समय धूप निकलने की वजह से यह थोड़ी हल्की हो जाती है, मगर शाम के समय काफी बढ़ जाती है। शनिवार को रात के समय सड़कों पर काफी स्मॉग छाया रहा। स्ट्रीट लाइटों की रोशनी में इसे साफ देखा जा सकता था, जिस तरह से धूंध के समय में दृश्यता कम हो जाती है, उसी तरह से स्मॉग से सड़कों पर रात के समय दृश्यता कम हो रही है, जिससे लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

नगर निगम आयुक्त डा. यश गर्ग का कहना है कि प्रदूषण से निपटने के लिए नगर निगम की ओर से लगातार सड़कों पर पानी का छिड़काव करवाया जा रहा है, जिससे की मिट्टी न उड़े। इसके साथ ही प्रदूषण फैलाने वाले लोगों पर नजर रखी जा रही है। कूड़े में आग लगाने वालों के चालान काटे जा रहे हैं। क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अधिकारी दिनेश कुमार का कहना है कि प्रदूषण फैलाने वाले सभी प्रकार की गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है। विभाग की टीम कंपनियों पर नजर रखे हुए है। समय-समय पर जाकर जांच करती है।