फरीदाबाद की नीमका जेल से गैंग ऑपरेट कर रहे थे पपला गुर्जर का भाई व दोस्त

  • झुंझनुं पुलिस का दावा गैंगस्टर पपला गुर्जर का भाई मिंटू व दोस्त
    वीरेंद्र सिंह यहीं से ऑपरेट कर रहे थे गैंग
  • राजस्थान पुलिस की सूचना से नीमका जेल सवालों के घेरे में

News24NCR/Faridabad: राजस्थान के झुंझनुं पुलिस के दावे ने जिला नीमका जेल पर सवालिया निशान लगा दिया है। राजस्थान पुलिस का दावा है कि पपला गुर्जर का भाई मिंटू उर्फ बिंटू उर्फ लाला और बेहद करीबी दोस्त वीरेंद्र सिंह उर्फ झूथर नीमका जेल में रहकर गैंग ऑपरेट कर रहे थे। पत्थर खदान लीज में साझेदारी को लेकर पिछले महीने झुंझनुं करमाड़ी में एक युवक की हत्या हुई थी। राजस्थान पुलिस का मानना है कि मिंटू और झूथर के इशारे पर उनके गैंग के सदस्यों ने यह हत्या की। इस मामले में पूछताछ के लिए राजस्थान पुलिस ने बृहस्पतिवार को मिंटू और झूथर को नीमका जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लेकर गिरफ्तार किया है। नीमका जेल प्रशासन ने कहा है कि इन दावों में सच्चाई नहीं है। दोनों को कड़ी निगरानी में विशेष सेल में रखा गया था। उनके द्वारा गैंग के सदस्यों से संपर्क करने का सवाल ही नहीं उठता।

पपला और झूथर ने साथ ली थी गुरू के मौत का बदला लेने की शपथ: विक्रम उर्फ पपला गुर्जर महेंद्रगढ़ जिले के खरौली गांव का रहने वाला है। वह गांव में ही शक्ति गुर्जर के अखाड़े में पहलवानी करता था। वीरेंद्र उर्फ झूथर भी उसके साथ पहलवानी करता था। दोनों तभी से पक्के मित्र हैं। करीब पांच साल पहले उनके गुरू शक्ति गुर्जर उर्फ दुधिया की कुछ लोगों ने हत्या कर दी थी। तब पपला और उसके दोस्त वीरेंद्र ने अपने गुरू शक्ति गुर्जर की हत्या का बदला लेने की कसम खाई। उन्होंने गैंग तैयार कर वारदातों को अंजाम देना शुरू किया। पपला व उसकी गैंग पर उसी के गांव के संदीप उर्फ फौजी, संदीप फौजी की मां बिमला, मामा महेश वासी बिहारीपुर व उसके नाना श्रीराम की हत्या करने का आरोप लगा। हत्या के मुकदमे महेंद्रगढ़ व नारनौल थाने में दर्ज हुए। इसके पहले भी वर्ष 2010 व 2014 में पपला के खिलाफ गवाहों को मारपीट व धमकाने के मुकदमे भी दर्ज हुए। इन मामलों में वीरेंद्र उर्फ झूथर काे उम्रकैद की सजा हो चुकी है। वहीं मिंटू पपला का छोटा भाई है। उस पर 7 सितंबर 2017 को हरियाणा के महेंद्रगढ़ कोर्ट में फायरिंग कर पपला काे भगाने का आरोप है। जिसमें वह गिरफ्तार हो गया। दोनों महेंद्रगढ़ जेल से थे। वहां रहकर उनके गैंग ऑपरेट करने की आशंका को देखते हुए फरीदाबाद नीमका जेल में शिफ्ट किया गया था।

हवालात तोड़ने के बाद से निशाने पर है पपला और उसकी गैंग: पिछले साल जुलाई में राजस्थान अलवर के बहरोड़ थाना पुलिस ने गैंगस्टर पपला गुर्जर को पकड़ा था। उसे हवालात में रखा गया। उसकी गैंग के सदस्यों ने थाने पर फायरिंग कर हवालात तोड़ दी और पपला गुर्जर को छुड़ाकर ले गए। इसके बाद से राजस्थान पुलिस भी उसके पीछे हाथ धोकर पड़ी हुई है। उसकी गैंग के अधिकतर सदस्यों काे पुलिस गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है।