पूर्व सांसद अवतार सिंह भड़ाना ने भरी हुंकार, बोले किसानों के लिए कोई भी क़ुर्बानी देने को तैयार

News24ncr/Faridabad: देश की सबसे बडी पंचायत लोकसभा में चार बार सांसद रहे अवतार सिंह भड़ाना ने बृहस्पतिवार को पलवल की धरती से केजीपी-केएमपी पर सैकडों की संख्या में ट्रेक्टरों पर सवार हो किसानों की होंसला अफजाई करते हुए किसानों के पक्ष में हुंकार भरते हुए कहा कि देश तो आजाद हो गया लेकिन वर्षों बीत जाने के बावजूद आज भी किसान एक तरह से गुलामी में ही जी रहा है, इसलिए इस बार 26 जनवरी को दिल्ली के लाल किले से किसानों की आवाज को बुंलद किया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि मैं किसान का बेटा पहले हूं राजनैतिक बाद में इसलिए किसानों के हक की लड़ाई में कोई भी कुर्बानी देने को तैयार हूं। उन्होनें कहा कि किसान आंदोलन शहीद भगत सिंह की धरती से शुरू हुआ है और वीर दादा कान्हा की धरती पलवल पर इसे पूरा किया जाएगा। पलवल में दिल्ली-आगरा राजमार्ग पर किसानों के धरने में पहुंचे पूर्व सांसद भड़ाना ने कहा कि गऊ माता व ब्राह्मण का सम्मान सर्वोपरि है इसलिए किसान का साथ देना सौभाग्य की बात है। आज हर वर्ग किसानों के साथ है। 36 बिरादरी किसान आंदोलन में शामिल हो रही है। पलवल वीरों की धरती है। फतह का झंड़ा इसी धरती पर गाड़ा जाएगा। सरकार को जल्द से जल्द किसानों की मांगों को पूरा करना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि राजा नाहर सिंह व दादा कान्हा की कुर्बानी को भुलाया नहीं जा सकता। यहां के किसान मुगल सल्तनत के सामने नहीं झुके तो केंद्र सरकार क्या चीज है। सरकार को झुककर किसानों की बात माननी ही होगी। बता दें कि किसान संगठनों के आह्वान पर ट्रेक्टर मार्च को लेकर बृहस्पतिवार को पूर्व सांसद अवतार भडाना अपने साथ सैकडों की संख्या में ट्रेकटर लेकर पलवल पहुंचे और केजीपी पर ट्रेक्टर मार्च में भाग लिया। श्री भडाना ने स्वयं टे्रक्टर चलाकर किसानों की आवाज को बुलंद किया। पलवल में नेशनल हाईवे पर पिछले 36 दिनों से धरने पर बैठे किसानों ने बृहस्पतिवार को पलवल बार्डर से भी ट्रेक्टर रैली के माध्यम अपनी हुंकार भरी। 

सैकडों की संख्या में ट्रेक्टरों ने पलवल केएमपी.केजीपी बॉर्डर से दिल्ली-गाजीपुर बॉर्डर के लिए ट्रेक्टर मार्च निकाल शक्ति प्रदर्शन किया। वहीं भारतीय युवक कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता श्रीमती पराग शर्मा, पृथला विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक रघुबीर तेवतिया के पुत्र एवं युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता तरूण तेवतिया, किसान नेता राजेश बहीन, युवा किसान नेता वरूण तेवतिया, मास्टर महेन्द्र चौहान व राष्ट्रवादी विचार मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती भी ट्रेक्टरों पर सवार होकर ट्रेक्टर रैली में बढ़चढकर भाग लिया।

आपको फिर बता दें कि अवतार सिंह भड़ाना ऐतिहासिक नेता और गुर्जर सम्राट कहे जाते हैं। ऐतिहासिक इसलिए क्यू कि वो देश की दो बड़ी पार्टियों में एक साथ रहने वाले इकलौते नेता हैं। हरियाणा में वो कांग्रेसी नेता हैं। न भाजपा में हिम्मत है कि उन्हें पार्टी से निकाल सके, अवतार भड़ाना उत्तर प्रदेश के मीरपुर से भाजपा के विधायक अब भी हैं और हरियाणा के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता हैं। कई बार फरीदाबाद के सांसद रह चुके हैं और 2019 का चुनाव भी उन्होंने कांग्रेस की टिकट पर लड़ा था जबकि उस समय वो उत्तर प्रदेश के भाजपा विधायक थे और स्तीफा भी दिया लेकिन भाजपा में अब तक उनके स्तीफे को स्वीकार करने के लिए हिम्मत नहीं हुई। इसलिए वो गुर्जर सम्राट भी कहे जाते हैं। गुर्जर समाज के लोग अब भी उन्हें अपना सब कुछ मानते हैं और समाज का अच्छा नेता बताते हैं। अवतार की पकड़ कई राज्यों में है शायद यही वजह है कि भाजपा उनका स्तीफा स्वीकार नहीं कर रही है।