नगर निगम फरीदाबाद की लापरवाही पड़ रही शहरवासियों के स्वास्थ्य पर भारी, हर तरह प्रदूषित हुआ शहर

 News24NCR/Faridabad: वायु प्रदूषण पर कंट्रोल करने वाली नगर निगम की टीमें अपने काम के प्रति लापरवाही बरत रही हैं, जिसके कारण फिर से प्रदूषण का स्तर बढ़ने लगा है। मंगलवार को शहर में एयर क्वॉलिटी इंडेक्स 360 दर्ज किया गया, जो काफी खतरनाक है।

नगर निगम की टीमों को सड़क पर पानी का छिड़काव करने और छोटी-बड़ी सभी कंस्ट्रक्शन साइटों पर नजर रखने के आदेश दिये गए थे लेकिन निगम की टीमें काम करने की बजाय आराम फरमा रही हैं। सड़कों पर धूल उड़ती रहती है, कहीं भी पानी का छिड़काव नहीं किया जा रहा है। कंस्ट्रक्शन साइट पर भी ईपीसीए के नियमों का पालन किए बगैर काम हो रहा है। जिसके कारण प्रदूषण स्तर एक बार फिर से बढ़ने लगा है। 

शहर का सबसे ज्यादा एरिया नगर निगम के अंतर्गत आता है। निगम क्षेत्र में बनीं सड़कों के दोनों तरफ व डिवाइडर पर धूल की मात्रा काफी ज्यादा है। शहर में वायु प्रदूषण के बढ़ने का मुख्य कारण धूल है। धूल को सड़क से हटाने के लिए सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने आदेश दिए हैं कि नगर निगम रोड स्वीपिंग मशीन की सहायता से सड़कों से धूल हटाए। नगर निगम इन आदेशों की पालना नहीं कर रहा है।

फरीदाबाद के 3 जोन में सड़कों से धूल हटाने के लिए नगर निगम के पास 6 मशीनें हैं। इन मशीनों से नगर निगम सफाई करने का काम भी सही तरीके से नहीं कर रहा है। शहर में आज भी कंस्ट्रक्शन साइटों पर नियमों का पालन नहीं हो रहा है। सीपीसीबी ने आदेश दिया था कि कंस्ट्रक्शन साइट पर समय समय पर पानी का छिड़काव हो, सभी निर्माण सामग्री को ढककर रखा जाए लेकिन इनका पालन कंस्ट्रक्शन साइटों पर नहीं हो रहा है। 

सीपीसीबी ने यह भी कहा था कि अगर कंस्ट्रक्शन साइट पर नियमों का पालन नहीं होता है तो प्रशासन इन्हें बंद भी करवा सकता है लेकिन नगर निगम की टीम फील्ड में कम ऑफिस में बैठ कर ज्यादा काम कर रही है। नगर निगम कमिश्नर डॉ. यश गर्ग ने बताया कि सभी टीमों को प्रदूषण नियंत्रण के लिए आदेश दिए गए हैं