क्या ऐसे सुधरेंगे फरीदाबाद के हालात, लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले फिर भी घट रहे कन्टेनमेंट ज़ोन

News24ncr/Faridabad: फरीदाबाद शहर में बीते दिनों से कोरोना मामलो में जो उछाल आया है उस से शहवासियों के चेहरे पर चिंता की लकीरे एक बार फिर से देखने को मिल रही है, जो लोग बेपरवाह होकर कोरोना का मजाक बनाने लगे थे वही लोग अब इस महामारी से बचाव के साधन ढूंढने में एक बार फिर से लग गए है। लेकिन अचानक से कोरोना मामलो में यह तेजी कैसे हुई यह सोचने का विषय है, शुरूआती दौर में जब अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होने के साथ ही जनता मेट्रो रेल के चलने का इंतज़ार कर रही थी। डीएमआरसी के द्वारा दिशा निर्देशों के लागु होने का भी लोग बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे। जनता की उम्मीदों का ध्यान रखते हुए सरकार ने मेट्रो सेवा को शुरू करने के आदेश दिए। बीते हफ्ते मेट्रो परिचालन शुरू हुआ और जीवन ने रफ़्तार पकड़ी।

कोरोना मामलो के बढ़ने का शायद यह भी एक कारण हो सकता है लेकिन जो लोग दूर दफ्तर में काम करने जाया करते हैं सरकार के इस कदम से उनको आसानी होगी। लेकिन इन सब बातो को दरकिनार किया जाये तो सोचने वाली बात यह है की प्रशासन लगातार कन्टेनमेंट ज़ोन को कम क्यों करता जा रहा है, अब शहर में मात्र 86 कन्टेनमेंट जोन बचे हैं। हालाँकि यह संख्या इतनी भी कम नहीं है लेकिन जिस तरीके से महामारी ने अपना कहर शहरवासियों पर एक बार फिर से बरपाया है ऐसे समय में यह संख्या बहुत बड़ी भी नहीं है।

स्मार्ट सिटी की सूची में फरीदाबाद आ तो गया है लेकिन अभी शहर में उस तेजी से विकास कार्य नहीं हो रहे है, अभी भी शहरी क्षेत्र में कुछ गालियां ऐसी हैं जहां पर आबादी ज्यादा है ऐसे में संक्रमण का दर फैलना आम है। जिले में 86 क्षेत्रों में नए कंटेनमेंट जोन घोषित किए हैं। नए कंटेनमेंट जोन के शहरी क्षेत्र में 200 मीटर के दायरे में ग्रामीण क्षेत्र में एक हजार मीटर के दायरे में बफर जोन रहेंगे। कोरोना जैसी महामारी को मात देने के लिए हमें भी एक जिम्मेवार नागरिक का फर्ज निभाते हुए सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों का उचित पालन करना होगा।