कोरोना प्रभाव: लोग हुए स्वच्छता के प्रति जागरुक,बदली शहर की रंगत

News24NCR/Faridabad: कोरोना संकट ने लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया है। नगर निगम,इकोग्रीन और सामाजिक संगठनों के प्रयासों से नागरिकों की सोच बदलती नजर आ रही है। इकोग्रीन ने खत्तों की संख्या कम कर दी है। खत्तों पर अब पहले की तरह कूड़ा दिखाई नहीं देता है। लोग अपने घर में कचरा एकत्र करने के लिए आने वाले वाहनों का इंतजार करते हैं। सामाजिक संगठनों की ओर से किए जा रहे अभिनंदन ने स्वच्छता सैनिकों का मनोबल बढ़ाया है।

महापौर सहित कई पार्षदों ने नगर निगम और इकोग्रीन के कर्मचारियों की सराहना की है। कोरोना संकट से पहले अगर किसी वार्ड में कचरा एकत्र करने को अगर कभी वाहन नहीं पहुंचता था, तो कई लोग आसपास खत्तों पर कचरा फेंक आते थे। अब इस स्थिति में सुधार नजर आ रहा है।

टोल फ्री नंबर से भी हुआ सुधार

नगर निगम और इकोग्रीन के टोल फ्री नंबर 18001025953 से भी सिस्टम में सुधार आया है। अगर कहीं कचरा एकत्र करने को वाहन नहीं पहुंचता है, लोग शिकायत कर देते हैं। शिकायतें आने को नगर निगम बेहतर मानता है। इन शिकायतों को वार्ड के सुपरवाइजर तक पहुंचा कर समाधान कराया जाता है।

आदर्श वार्ड बनाने की पहल

नगर निगम क्षेत्र में 40 वार्ड हैं। वार्ड नंबर 7,12,27,30 और 35 को आदर्श बनाने की पहल की गई है। आदर्श का मतलब इन वार्डों में हर घर से गीला व सूखा कचरा अलग-अलग एकत्र किया जाएगा। अन्य वार्डों में कहीं-कहीं गीला व सूखा कचरा अलग-अलग किया जा रहा है, मगर किसी भी वार्ड में पूरी तरह स्थिति संतोषजनक नहीं है।

खत्तों की संख्या भी घटी

पहले नगर निगम क्षेत्र में 500 से अधिक खत्ते थे। इस समय करीब 300 खत्ते हैं। इन खत्तों से रोजाना सुबह व शाम कचरा उठाया जा रहा है। इस कारण भी शहर में कचरा कम दिखाई दे रहा है।

इकोग्रीन के प्रभारी विनोद देवधर ने बताया कि धीरे-धीरे लोग जागरूक हो रहे हैं। किसी क्षेत्र में हमारे कर्मचारी अगर देरी से पहुंचते हैं, तो नागरिक शिकायत करते हैं। यह अच्छी बात है, शिकायत आती है और समाधान हो जाता है। कोरोना जैसी महामारी ने बहुत कुछ सिखाया है। आज जिस नागरिक जागरूक हो रहे हैं। हमें आगे भी ऐसे ही जिम्मेदारी निभानी होगी।

निगमायुकत डॉ.यश गर्ग ने बताया कि हम अपने कर्मचारियों के साथ-साथ हर नागरिक की सुरक्षा को लेकर गंभीर हैं। हम शहर के खत्तों को लगातार कम कर रहे हैं, ताकि इधर-उधर कचरा दिखाई न दे। वार्डों को आदर्श बनाया जा रहा है। लाेग सहयोग कर रहे हैं।