कूड़े के ढेर पर बैठा फरीदाबाद शहर, लेकिन कागज़ों में प्राप्त है स्मार्ट सिटी का दर्जा

News24NCR/SandeepGathwal: फ़रीदाबाद शहर में जगह जगह लगे कूड़े के ढेर शहर के स्मार्ट सिटी होने पर प्रश्न चिन्ह लगा रहे हैं। निगम में आनेवाले 40 वार्डों में कही कूड़ा उठाने वाले वाहन कम है तो कही सफ़ाईकर्मियों की कार्यशैली से आमजन संतुष्ट नही है।

लोगों का कहना है कि कूड़ा उठाने के लिए ना तो इकोग्रीन की गाड़ियां नियमित रूप से नहीं आती है, और ना ही निगम की तरफ़ से कर्मचारी ठीक ढंग से सफ़ाई का काम करते है। इतना ही नहीं पार्षद लंबे समय से अपने वार्डों में इको ग्रीन की मांग कर रहे है, परंतु इकोग्रीन की तरफ से इस पर कोई ध्यान नहीं दिया गया है।

निगम पार्षद काफी लंबे समय से गाड़ियां को बढ़ाने की मांग कर रहे है, परंतु अभी तक इस पर कोई कार्यवाही नहीं को गई है। इकोग्रीनकी गाड़ियों को कमी की वजह से घर – घर से कूड़ा इकठ्ठा करना मुश्किल होता है, जिसके चलते लोग अपने घरों का कूड़ा सड़कों पर डाल देते है जिससे जगह-जगह कूड़े के ढेर देखे जा सकते हैं।

आपको बता दे कि नगर निगम द्वारा जिले भर से कचरा इकठ्ठा करने का काम इकोग्रीन को दिया गया था। दिसंबर 2017 से इकोग्रीन ने जिले में अपना काम शुरू किया था तभी से ही नगर निगम पार्षद ईकोग्रीन के कार्य प्रणाली से संतुष्ट नहीं है।

नगर निगम द्वारा ईकोग्रीन पर काफी पैसा खर्च किया जाता है इसके बावजूद भी इकोग्रीन निगम क्षेत्र में अपना कार्य ठीक से नहीं कर रहीहै। ऐसे में देखना होगा कि नगर निगम कब तक इकोग्रीन पर नकेल कस पाती है।