करोड़ों रुपए का टेक्स दे कर भी सुविधाओं से दूर है फरीदाबाद, और कहने को है स्मार्ट सिटी

News24ncr/Faridabad: स्मार्ट सिटी और औद्योगिक नगरी कहलाये जाने वाला फरीदाबाद शहर विकास की राह ताकते हुए अब थक चुका है। फरीदाबाद को स्मार्ट शहर बनाने के अनेकों दावे किए गए पर फिर भी फरीदाबाद वासी सुविधाओं से वंचित हैं। औद्योगिक क्षेत्र में करीब 15 साल से आधारभूत सुविधाओं का अभाव है और शहर वासी सालों से विकास का इंतजार ही कर रहे हैं।

सड़कों पर लगी स्ट्रीट लाइट वर्षों से खराब है और सीवर का पानी सड़कों पर बहता रहता है। ऐसे में शहर को स्मार्ट बनाने के किए गए सभी दावे खोखले साबित हो रहे हैं। इतना ही नहीं कई लोगों ने शहर की ग्रीन बेल्ट पर कब्जा कर रखा है। ऐसे में बाहर से आने वाले खरीददार सड़कों की हालत देखकर ही वापस लौट जाते हैं और इसका सीधा असर उद्योग पर भी पड़ रहा है।

निगमायुक्त डॉ. यश गर्ग का कहना है कि औद्योगिक क्षेत्र में आधारभूत ढांचे को मजबूत बनाने के लिए काफी प्रयास किए गए हैं। इतना ही नहीं 2 साल पहले करीब डेढ़ करोड़ रुपए का बजट भी पास किया गया था मगर यह मामला अभी भी कोर्ट में चल रहा है। इस कारण से शहर में विकास कार्य रुका हुआ है। निगम आयुक्त का कहना है कि मामले का निपटारा होते ही विकास कार्य को एक बार फिर शुरू किया जाएगा।

बता दें कि औद्योगिक क्षेत्र सेक्टर 6, 24, 25, 27, सेक्टर 58, सेक्टर 11, डीएलएफ एरिया, सरूरपुर, नेहरपार फार्म और डबुआ कॉलोनी आदि क्षेत्रों में पानी की निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है साथ ही सड़कों की स्थिति बेहाल है। सड़कों पर बड़े-बड़े गड्ढे होने के कारण लोगों को असुविधा के साथ सड़क हादसा और दुर्घटनाओं का भी डर सताता रहता है।