कंट्रोल में कोरोना तो बाज़ार बंद क्यूँ.. लोग उठा रहे सवाल।

News24NCR/Faridabad: शनिवार को भी कोरोना के काफी अधिक मामले सामने आए हैं। जिले में शनिवार को कोरोना के 91 नए मामले आए हैं तथा एक महिला की मौत भी हुई है। इन सभी को मिलाकर जिले में मौत के कुल आंकड़े 160 पर पहुंच गए हैं, वहीं कोरोना पॉजीटिव की कुल संख्या 11625 हो गई है। यह संख्या हरियाणा में सबसे अधिक है। कोरोना मामलों को लेकर फरीदाबाद इस समय पूरे प्रदेश में सबसे आगे है। इसके बाद गुरूग्राम, सोनीपत, भिवानी, रोहतक, करनाल, पंचकूला, पानीपत, यमुनानगर, अंबाला, हिसार और पलवल में भी तेज गति से कोरोना पॉजीटिव की संख्या बढ़ रही है। जिसको देखते हुए ही सरकार ने दो दिन के बंद का ऐलान किया है। 

हालांकि स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि फरीदाबाद सहित उपरोक्त जिलों  में कोरोना पर कंट्रोल हो रहा है। लेकिन जिस हिसाब से इन क्षेत्रों में टेस्टिंग कम करने के बावजूद काफी अधिक संख्या में नए केस आ रहे हैं, उसे देखते हुए स्वास्थ्य विभाग के दावे फेल हो रहे हैं। बता दें कि प्रदेश भर में कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर सरकार ने शनिवार व रविवार को अवकाश की घोषणा की है। इन दोनों दिनों में ना तो बाजार खुलेंगे और ना ही शापिंग मॉल व दफ्तर। ऐसा कोरोना की चेन को तोडऩे के लिए किया गया है। जबकि स्वास्थ्य विभाग के अपने ही दावे हैं और लगातार बढ़ते केसों के बावजूद कह रहे हैं कि कोरोना पर कंट्रोल हो रहा है। लेकिन लोगों का कहना है कि जब कोरोना पर कंट्रोल हो रहा है तो फिर सरकार दो दिन का बंद किस आधार पर घोषित कर रही है। स्वास्थ्य विभाग व सरकार के दावों को लेकर लोगों में खासी नाराजगी है। खासतौर पर व्यापारी वर्ग दो दिनों के बाजार बंद होने की घोषणा से दुखी है। लोगों का कहना है कि उनके काम धंधे ठप्प हैं, इसके बावजूद सरकार उन्हें बर्बाद करने पर तुली है।