इस बार नहीं लगेगा सुरजकुंड का मेला, कोरोना के चलते पहली बार हुआ आयोजन रद्द

News24ncr/Faridabad: कोरोना के चलते नए वर्ष में लगने वाले सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय हस्तशिल्प मेले के आयोजन को फिलहाल टाल दिया गया है। हालात दुरुस्त होने के बाद सरकार मेले के आयोजन पर विचार करेगी। आयोजन टलने से इस बार देश-विदेश के पर्यटक मेले का लुत्फ नहीं उठा पाएंगे। 

वैसे नए वर्ष में 35वां सूरजकुंड अंतरराष्ट्रीय हस्तशिल्प मेले का आयोजन किया जाना था। हर वर्ष 1 फरवरी से 15 फरवरी तक आयोजित होने वाले मेले की तैयारियां आमतौर पर 4 से 5 महीना पहले से ही हो जाती रही हैं। अब इस वर्ष मार्च से ही काेरोना ने जोर पकड़ना शुरू कर दिया था।  

कोरोना के चलते मेले के आयोजन पर पहले से ही संशय की स्थिति बनी हुई थी। हालात ठीक न होने के कारण कोई तैयारी नहीं की गई थी। हालांकि मेले में आने को इच्छुक देशी-विदेशी कलाकार और हस्तशिल्पी मेला प्रबंधन के संपर्क में थे और बराबर आयोजन को लेकर जानकारी ले रहे थे। कोरोना के चलते अब तक हालात ठीक नजर नहीं आ रहे हैं। इसलिए आयोजन को टाल दिया गया है। अब सरकार हालात को देखते हुए आगे मेले के आयोजन पर फैसला लेगी। पिछले वर्षों के आयोजन की बात करें, तो देश-विदेश के हस्तशिल्पियों और कलाकारों का संगम होता था। 

मेला थीम स्टेट पर आधारित होता था और एक देश को पार्टनर कंट्री बनाया जाता था। विश्व भर से कई देश हिस्सा लेते थे। मेला में देश-विदेश के 1100 से अधिक शिल्पी अपनी कला कृतियों के साथ यहां पहुंचते थे। लोगों को मेले का इंतजार रहता था। सूरजकुंड मेला के नोडल अधिकारी राजेश जून ने बताया कि फिलहाल मेले के आयोजन को स्थगित किया गया है। महीने-दो महीने बाद कारोना की स्थिति को देखते हुए सरकार फिर से इस पर विचार करेगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने आगे अगर मेले के आयोजन का फैसला लिया, तो मेला प्रबंधन की ओर से दो महीने में सारी तैयारी पूरी कर ली जाएगी।