अमेरिका से हर साल आती थी रामलीला की कैकेयी, कोरोना के चलते इस बार फंसी

News24NCR/Faridabad: कोरोना संक्रमण काल में इस बार रामलीलाओं पर भी ग्रहण लग गया है। शहर में जहां अन्य रामलीला और दशहरा आयोजन को लेकर अभी संशय बना हुआ है, वहीं श्रद्धा रामलीला कमेटी ने स्पष्ट कर दिया है कि वह इस बार भी रामलीला का आयोजन करेंगे। हालांकि, इस बार काफी बदलाव किए गए हैं। 11 दिन तक चलने वाली यह रामलीला इस बार सिर्फ सात दिन ही चलेगी।

इसके अलावा आयोजन भी इस बार सेक्टर-15 मैदान में न करके सेक्टर-14 स्थित डीएवी स्कूल के ऑडिटोरियम में किया जाएगा।
श्रद्धा रामलीला कमेटी के पदाधिकारी और हर साल इसमें लक्ष्मण की भूमिका निभाने वाले अनिल चावला ने बताया कि कोरोना काल को देखते हुए रामलीला की समय-सीमा घटाई गई है। उन्होंने बताया कि मंचन के दौरान सरकार द्वारा जारी की गई कोविड-19 गाइडलाइन का पूरा ध्यान रखा जाएगा। यही कारण है कि इस बार रामलीला के लिए सेक्टर-14 स्थित डीएवी स्कूल के ऑडिटोरियम को चयनित किया गया है। करीब एक हजार लोगों के बैठने की जगह इस ऑडिटोरियम में है, मगर कमेटी ने तय किया है कि इसमें सिर्फ 200 लोगों को ही प्रवेश दिया जाएगा। दर्शकों के बैठने के लिए लगाई गई प्रत्येक कुर्सी की दूरी भी एक मीटर दूर रखी गई है।


उन्होंने बताया कि उनकी कमेटी के सदस्यों ने रामलीला की रिहर्सल शुरू कर दी है। 18 अक्तूबर से शुरू होने वाली इस रामलीला के लिए सभी तैयारियां जोर-शोर से की जा रही हैं। उन्होंने बताया कि ज्यादा से ज्यादा लोग उनकी रामलीला को देख सकेंगे। इसके लिए दिशा चैनल से टाइअप किया गया है। दिशा चैनल पर उनकी रामलीला का मंचन दिखाया जाएगा। अनिल ने बताया कि कैकयी का रोल निभाने के लिए हर साल अमेरिका से निशा भाटिया फरीदाबाद आती थीं, मगर इस बार कोरोना के कारण वह नहीं आ पा रहीं हैं। इस बार कैकेयी का रोल उनकी छोटी बहन मोनिका भाटिया जोकि फरीदाबाद में ही रहती हैं, निभाएंगी।