अच्छी खबर: फरीदाबाद में सफल रहा बेटी बचाओ अभियान, बढ़ा लिंगानुपात

News24NCR/Faridabad: शहर-देहात में लाडलियों की कद्र बढ़ने लगी है। पिछले कई वर्षों में लिंगानुपात की स्थिति लगातार सुधर रही है। महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से बेटियों के जन्म पर साइकिल रैली, कलश यात्रा, थाली बजाओ कार्यक्रम और कुआं पूजन ने सोच बदली है। सामाजिक संस्थाओं के कार्यक्रमों और स्वास्थ्य विभाग की सख्ती से भी बेहतर नतीजे सामने आए हैं। वर्ष 2015 में जिले का लिंगानुपात 887 था और मौजूदा समय में 911 हैं।

प्रदेश सरकार ने छात्राओं का बढ़ाया मान

स्थिति में सुधार को देखते हुए प्रदेश सरकार की ओर से वर्ष 2016-17 में गांव धौज, 2017-18 में गांव बड़ौली, 2018-19 में गांव सीकरी, 2019-120 में गांव अटाली की छात्राओं को सम्मानित किया गया था। प्रत्येक गांव में दसवीं की टॉपर तीन छात्राओं को कुल 1.5 लाख रुपये का पुरस्कार प्रदान किया गया था। स्वास्थ्य विभाग ने संदेश दिया कि बेटियां बोझ नहीं हैं।

स्वास्थ्य विभाग ने भ्रूण लिंग जांच के खिलाफ की कार्रवाई

जिला स्वास्थ्य विभाग ने वर्ष 2017 में भ्रूण लिंग जांच के खिलाफ 7 संस्थानाें के खिलाफ कार्रवाई की। प्रसव पूर्व तकनीक अधिनियम (पीएनडीटी) के उल्लंघन के मामले में अल्ट्रासाउंड मशीनें सील की गईं। ऐसे ही टीम ने 2018 में 2 संस्थानाें के खिलाफ कार्रवाई की। विभाग की टीम ने उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा पीएनडीटी के नाेडल अधिकारी डा. हरीश आर्य के नेतृत्व में वर्ष 2020 में तीन जगह छापेमारी की।